आप भी सुनना चाहते हैं रामायण की चौपाइयां, बस करना है आपको इतना सा काम..

3
9

आप भी सुनना चाहते हैं रामायण की चौपाइयां, बस करना है आपको इतना सा काम..

रक्तिम तिवारी/अजमेर.

यूं तो सहस्र वर्षों से वाल्मीकि और तुलसीदास रचित रामायण समग्र रूप से ग्रंथों में उपलब्ध है। इन्हें पढऩे के साथ-साथ सुना जा रहा है। लेकिन बदलते वक्त के साथ रामायण का नया स्वरूप भी सामने आया है। अब ऐसी रामायण उपलब्ध है, जिसे एक बटन दबाकर संगीतमय स्वर में सुना जा सकता है।

बोलती रामायण के रचयिता अभय माहेश्वरी और उनकी पत्नी श्रीकांता माहेश्वरी हैं। दोनों पेशे से कंपनी सचिव रहे हैं। दंपती बोलती रामायण का प्रचार-प्रसार करने में जुटे हैं।

यह है बोलती रामायण…
अभय और श्रीकांता ने बताया कि बोलती रामायण की अवधि 21 घंटे की है।इसमें बालकांड से उत्तरकांड तक के सभी दोहे और चौपाइयां शामिल की गई हैं। बोलती रामायण की शुरुआत गणेश वंदना और समापन रामायण आरती, पुष्पांजलि और हनुमान चालीसा से होती है।

 

मारवाड़ से है नाता
दोनों कंपनी सचिव हैं। रामायण के प्रचार-प्रसार के लिए दोनों देशभर में घूमते हैं। विभिन्न शहरों में बुक फेयर, साहित्य फेस्टिवल और अन्य कार्यक्रमों में शिरकत करते हैं। इस कार्य के चलते दोनों प्रतिमाह 15 दिन ही परिवार को वक्त दे पाते हैं। माहेश्वरी दंपती का मानना है, कि रामकार्य से बढकऱ कोई कार्य नहीं है।

Source: Ajmer Patrika
आप भी सुनना चाहते हैं रामायण की चौपाइयां, बस करना है आपको इतना सा काम..

Comments are closed.