कुचीपुड़ी में मंदाकिनी ने बिखेरा यशोदा का वात्सल्य

0
16

भीलवाड़ा।

स्पिक मैके के विश्व नृत्य दिवस शृंखला के पहले दिन विरासत-2019 में मदांकिनी त्रिवेदी ने नोबल इन्टरनेशनल स्कूल एवं लॉड्र्स कॉल्वेन्ट स्कूल में कुचीपुड़ी नृत्य की प्रस्तुति दी।

 

त्रिवेदी ने साथी कलाकार अनर सेठ के साथ गणपति वंदना से शुरुआत की। कुचीपुड़ी का इतिहास बताया। इस नृत्य में ग्रीवा, नेत्र व पाद संचलन की महत्ता समझाई। नाट्स शास्त्र के हास्य, करुण, रौद्र, वात्सल्य, विभत्स, वीर, क्रोध आदि रसों की उत्पति से नृत्य को सुन्दर बनाते मां यशोदा और कृष्ण के वात्सल्य में भगवान कृष्ण की बाल क्रीड़ाओं में माखन चोरी, पालने में झुलाना, डांटना और मां यशोदा की गोद में सो जाना आदि प्रसंग अपने नृत्य से समझाए।

 

इसे देख छात्र-छात्राएं मंत्रमुग्ध हो गए। स्पिक मैके के कैलाश पालिया, दीपिका पाराशर, माही, अनुकृति जैन, सौम्या, कृतिका, मेघा मौजूद थे। पद्मश्री दर्शना जावेरी की मणिपुरी नृत्य की प्रथम प्रस्तुति राउण्ड टेबल लेडिज सर्कल के सहयोग से शुक्रवार सुबह ८.३० बजे डॉ. भीमराव अम्बेडकर राबाउमावि आटूण एवं द्वितीय प्रस्तुति जवाहर नवोदय विद्यालय हुरड़ा में होगी।

Source: Bhilwara Patrika
कुचीपुड़ी में मंदाकिनी ने बिखेरा यशोदा का वात्सल्य