गृह मंत्रालय और पीएमओ से सलाह के बाद मिलेगी 5G टेस्टिंग की मंजूरी

0
3

नई दिल्ली। दूरसंचार विभाग ( dot ) चीनी दूरसंचार दिग्गज हुवावे को आगामी 5जी स्पेक्ट्रम आधारित फील्ड टेस्टिंग के लिए पहले गृह मंत्रालय और प्रधानमंत्री कार्यालय ( PMO ) के साथ परामर्श करेगा और उसके बाद ही मंजूरी देगा। अधिकारिक सूत्रों के अनुसार यह सुरक्षा से जुड़ा मुद्दा है, केवल दूरसंचार या प्रौद्योगिकी को ही नहीं बल्कि गृह मंत्रालय और पीएमओ को भी लूप में रहना होगा, जिनके विचार देश की सुरक्षा से संबंधित मामलों पर बहुत महत्वपूर्ण हैं।
यह भी पढ़ेंः- फंसे कर्ज के रिजॉल्युशन को लेकर RBI ने जारी किया नया सर्कुलर, 1 दिन के नियम को बदला
उन्होंने कहा, “इस तरह के निर्णय उचित परामर्श के साथ किए जाएंगे। हमें दुनिया भर में यह भी देखना होगा कि हुआवेई जहां भी काम कर रही है, सरकार द्वारा इस मुद्दे को कैसे संभाला गया है। यह सिर्फ एक उपकरण की आपूर्ति की तुलना में एक बड़ा मुद्दा है।”
यह भी पढ़ेंः- दुनिया के सबसे अमीर शख्स Jeff Bezos को इस भारतीय ने स्टेज पर रोका, जानिए उसके बाद क्या हुआ
सरकार ने 5जी परीक्षणों में हुआवेई की भागीदारी पर फैसला करने के लिए प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार की अध्यक्षता में एक समिति का गठन किया है। सूत्र के मुताबिक, इस मुद्दे पर समग्र दृष्टिकोण लेने के लिए समिति की सिफारिशों को गृह मंत्रालय और पीएमओ के पास भेजा जाएगा।
यह भी पढ़ेंः- जेट एयरवेज के रिवाइवल की राह में रोड़ा बन रहा एतिहाद एयरवेज, बैंकों के सामने रखी ये तीन मांगें
नए दूरसंचार मंत्री रविशंकर प्रसाद ने हाल में कहा था, “जहां तक 5जी का सवाल है। यह केवल तकनीक से जुड़ा मामला नहीं है। इसमें सुरक्षा से जुड़े मुद्दे भी शामिल हैं।” उन्होंने कहा था, “5जी परीक्षण में किसी किसी विशेष कंपनी को भाग लेने की अनुमति है या नहीं, इसमें सुरक्षा मुद्दे भी शामिल है और यह एक जटिल प्रश्न है।”
यह भी पढ़ेंः- नीति आयोग के पुनर्गठन के बाद पूंजी जुटाने की तैयारी में सरकार, अपनी एसेट्स बेचेंगी ये सरकारी कंपनियां
हुआवेई ने मंत्रालय से स्पष्टता की मांग की है कि क्या उसे दूरसंचार ऑपरेटर के साथ फील्ड परीक्षण में भाग लेने की अनुमति दी जाएगी। पिछले साल अक्टूबर में शेनजेन की कंपनी हुआवेई ने कहा था कि उसे डीओटी द्वारा 5जी परीक्षणों पर चर्चा में भाग लेने के लिए आमंत्रित किया गया था। हालांकि एक अन्य प्रमुख चीनी कंपनी जेडटीई को आमंत्रित नहीं किया गया था।
यह भी पढ़ेंः- मुकेश अंबानी का Reliance Jio बना देश का दूसरा सबसे पॉपुलर ब्रांड, जानिए कौन है शीर्ष पर
जिन तीन उपकरण विक्रेताओं को पैनल से हरी झंडी मिली है, वे सैमसंग, नोकिया और एरिक्सन हैं। परीक्षणों के लिए, जियो ने सैमसंग, एयरटेल ने नोकिया और वोडाफोन आइडिया (वीआईएल) ने एरिक्सन के साथ भागीदारी की है।
Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार, फाइनेंस, इंडस्‍ट्री, अर्थव्‍यवस्‍था, कॉर्पोरेट, म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News App.
Source: business patrika
गृह मंत्रालय और पीएमओ से सलाह के बाद मिलेगी 5G टेस्टिंग की मंजूरी