बजट में राजस्थानी भाषा के लिए सरकार ने खोला दिल, भाषा प्रेमियों की खिली बांछें

0
0

राजस्थान सरकार ने बुधवार को विधानसभा में पेश बजट में राजस्थानी भाषा के लिए दिल खोलकर तोहफे दिए। इनमें राजस्थान राज्य अभिलेखागार बीकानेर में राजस्थानी भाषा के अभिलेखों को हिंदी में अनुवाद के लिए सॉफ्टवेयर डवलप करने, राजस्थानी भाषा को सिखाने के लिए एप बनाने, राजस्थानी कवियों, लेखकों, चिंतकों, कलाविदों, साहित्यकारों को एक मंच उपलब्ध करवाने के लिए जयपुर में लिटरेचर फेस्टिवल, सवाई मानसिंह टाउन हॉल में एक विश्वस्तरीय राजस्थान धरोहर संग्रहालय आदि प्रमुख घोषणाएं शामिल रहीं। इन घोषणाओं के बाद राजस्थानी भाषा की मान्यता और संघर्ष से जुड़े सभी भाषा प्रेमियों की बांछें खिल उठी हैं। सब ने इस कदम की सराहना की है। किसी ने इसे संघर्ष को गति देने वाला कदम बताया तो किसी ने रोजगार बढ़ने की संभावना जताई। भाषा की मान्यता की संभावना, साहित्यकारों को बल मिलेगा <img src="images/p2.png"कदम सराहनीय है। इससे राजस्थानी भाषा की मान्यता की संभावना बढ़ेगी, साहित्यकारों को बल मिलेगा। राजस्थानी के 3 लाख हस्तलिखित ग्रंथ है, इसके संपादन और प्रकाशन की घोषणा होती तो रोजगार बढ़ते। अलग से भाषा का अखबार भी प्रकाशित करना चाहिए था। डॉ. देव कोठारी, पूर्व अध्यक्ष, राजस्थानी भाषा, साहित्य एवं संस्कृति अकादमी बीकानेर। <img src="images/p2.png"बहुत ही खूबसूरत कदम है ये। बस समय से मूर्त रूप में आ जाए तो कइयों को इसका लाभ होगा। लंबे समय से संघर्षरत राजस्थानी भाषा नए आयाम छू पाएगी। शिवदान सिंह जोलावास, प्रदेश अध्यक्ष, राजस्थानी मोट्यार परिषद। <img src="images/p2.png"राजस्थानी भाषा, साहित्य और संस्कृति के सरंक्षण के साथ विकास के लिए गहलोत सरकार का सराहनीय कदम है। स्वागत है। डॉ राजेंद्र बारहठ, प्रदेश पाटवी, अखिल भारतीय राजस्थानी भाषा मान्यता संघर्ष समिति। <img src="images/p2.png"राजस्थानी भाषा के लिए इससे बेहतर कदम क्या हो सकता है। विरासत, भाषा, साहित्यकारों सब के लिए ये कदम बहुत अच्छा साबित होगा। आने वाली पीढ़ियों को भाषा को जानने का मौका मिल पाएगा। करुणा दशोरा, लेखिका। <img src="images/p2.png"सरकार ने बहुत अच्छी पहल की है। इससे राजस्थानी भाषा के लिए चल रहे संघर्ष को गति मिलेगी। ये भाषा के लिए शुभ संकेत है। भाषा से जुड़े सभी लोगों के लिए बेहतर कदम है। डॉ. कुंजन आचार्य, एमएलएसयू, पत्रकारिता विभाग हैड।
Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

Source: Rajastahn
बजट में राजस्थानी भाषा के लिए सरकार ने खोला दिल, भाषा प्रेमियों की खिली बांछें