भारत के मुकाबले आधा हुआ पाकिस्तान का रुपया, बढ़ रही है पाकिस्तान की मुसीबत

0
4

नई दिल्ली। पाकिस्तान की आर्थिक स्थिति काफी खराब हो चुकी है। पाकिस्तानी सरकार को लगातार आर्थिक मदद के लिए आईएमएफ और वल्र्ड बैंक के सामने हाथ तक फैलाने पड़ रहे हैं। जिसकी वजह से पाकिस्तानी रुपए की स्थिति गिरती जा रही है। मौजूदा स्थिति यहां तक पहुंच चुकी है कि पाकिस्तान का रुपया भारतीय रुपए के मुकाबले आधा हो गया है। शुक्रवार को जहां भारतीय रुपया डॉलर के मुकाबले 70 डॉलर था, तो वहीं पाकिस्तानी रुपया डॉलर 150 रुपए पहुंच गया। जानकारों की मानें तो मौजूदा समय में पाकिस्तानी रुपया अपने सबसे निचले स्तर पर पहुंच गया है।
यह भी पढ़ेंः- अमरीका में पिज्जा हट चलाने वाली यम कंपनी भारत में खोलेगी 600 आउटलेट, 20,000 नौकरियों की संभावनाएं
इस वजह से बढ़ रहा है पाकिस्तान में संकट वास्तव में पाकिस्तान ने इंटरनेशनल मॉनिटरी फंड से 6 अरब डॉलर के राहत पैकेज की डिमांड की थी, जिसे मंजूरी मिल चुकी है। खास बात ये है कि 1980 से अब तक पाकिस्तान को आईएमएफ की ओर से 12 बार राहत पैकेज दिया जा चुका है। अब उसे 13वीं बार राहत पैकेज दिया जाएगा। जिसकी वजह से पाकिस्तानी रुपए की साख में गिरावट का दौर देखने को मिल रहा है। इस सप्ताह पाकिस्तानी रुपया अपने निम्नतम स्तर पर आ गया। वहीं दूसरी ओर पाकिस्तान ने राहत पैकेज के बदले किन शर्तों को पूरा करने वादा किया है, इन बातों की अटकलों की वजह निवेशकों में असमंजस की स्थिति बनी हुई है। निवेशक पाकिस्तान में डॉलर की मात्रा पर्याप्त संख्या में ना होने के कारण भी काफी सहमे हुए हैं।
यह भी पढ़ेंः- पेट्रोल के दाम में लगातार दूसरे दिन 7 पैसे प्रति लीटर की कटौती, डीजल के दाम स्थिर
पर्यटकों को डॉलर देना कम कर सकती है सरकार पाकिस्तान की सरकार की ओर से इस स्थिति से निपटने के लिए एक कमेटी का गठन किया है। वहीं दूसरी ओर सरकार विदेश जाने वाले पाकिस्तानी लोगों को सीमित मात्रा डॉलर देने का ऐलान कर सकती है। मौजूदा समय में सरकार की ओर से ऐसे लोगों को 10,000 डॉलर दे रही है। जिसे 3,000 डॉलर किया जा सकता है। जिसके बाद पाकिस्तान आईएमएफके एक साल में 2 अरब डॉलर से ज्यादा की बचत होगी।
यह भी पढ़ेंः- Patrika Business News Watch: बिजनेस से जुड़ी इन खबरों पर रहेगी सभी की नजर
विदेशी मुद्रा भंडार में भारी कमी सोमवार यानी 20 मई को पाकिस्तान का केंद्रीय बैंक नई नीतिगत दरों का ऐलान करने वाला है। पाकिस्तान केंद्रीय बैंक के अनुसार 10 मई को समाप्त हुए सप्ताह में पाकिस्तान का विदेशी मुद्रा भंडार 13.80 अरब करोड़ डॉलर घटकर 8.846 अरब डॉलर बचा है। इस मतलब यह हुआ कि पाकिस्तान तीन महीने से भी कम की जरूरी सामग्री विदेशों से आयात कर सकता है। आपको बता दें कि पाकिस्तानी रुपए का भाव पिछले एक साल में 20 फीसदी से ज्यादा घट चुका है। वहीं पाकिस्तानी रुपया डॉलर के मुकाबले एशिया की सबसे खराब प्रदर्शन करने वाली मुद्रा बन गई है।
 
Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार, फाइनेंस, इंडस्‍ट्री, अर्थव्‍यवस्‍था, कॉर्पोरेट, म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News App.
Source: business patrika
भारत के मुकाबले आधा हुआ पाकिस्तान का रुपया, बढ़ रही है पाकिस्तान की मुसीबत