सेंट्रल जेल में महिला कैदियों के लिए नया आधुनिक भवन तैयार

0
8

अजमेर सेंट्रल जेल में महिला कैदियों के लिए आधुनिक सुविधाओं से युक्त नया भवन बनकर तैयार हो चुका है। राज्य सरकार की ओर से सुप्रीम कोर्ट के आदेश के तहत प्रदेश की जेलों में महिला कैदियों की स्थति में सुधार के लिए यह कदम उठाया है। करीब सात करोड़ की रुपए इस काम के लिए आबंटित किए गए थे। अच्छे आचरण वाले कैदियों के लिए पांच आवास और महिला कैदियों के लिए नया भवन बनाया गया है। नए भवन में करीब चार सौ महिला कैदियों को रखा जा सकता है, इसमें आधुनिक लेट-बाथ, मनोरंजन के लिए एलईडी टीवी और अन्य सुविधाएं हैं। जेल अधीक्षक शिव भगवान गोदारा के अनुसार महिला कैदियों के नए भवन का उपयोग शीघ्र शुरू हो जाएगा। छह साल तक के बच्चों के साथ रह सकती है महिला कैदी अजमेर सेंट्रल जेल में नवनिर्मित भवन में महिला कैदियों के छह साल तक के बच्चों को रखने और उनके रखरखाव, खेल व मनोरंजन की सुविधाएं मुहैया कराई जाएंगी। बच्चों के लिए पालना गृह की सुविधा भी है। सुप्रीम कोर्ट ने वर्ष 2006 में जेल में महिला कैदियों के साथ रहने वाले बच्चों की सुरक्षा व जीवनस्तर के बारे में कई निर्देश दिए थे। अदालत ने तब कहा था कि जेल बच्चों के पालन-पोषण के लिए मुफीद जगह नहीं है लेकिन वह बिना गलती के जेल में रहने पर मजबूर हैं। अदालत ने इन बच्चों को छह साल की उम्र तक अपनी मां के साथ रहने की अनुमति दी थी। उसके बाद सरकारी संरक्षण गृह में रखने का प्रावधान है। अजमेर सेंट्रल जेल में करीब ढाई सौ महिला कैदी हैं, इनमें से करीब दो दर्जन महिलाओं के बच्चे उनके साथ ही रहते हैं। अजमेर सेंट्रल जेल मंे महिला कैदियाें के लिए तैयार आधुनिक भवन।
Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today




PHEE News – rajasthan news new modern building ready for women prisoners in central jail



Source: Rajastahn