Bugdet 2019: विदेश में रहने वाले भारतीयों को सीतारमण की सौगात, तत्काल बनवा सकेंगे आधार

0
0

नई दिल्ली। वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ( Finance Minister Nirmala Sitharaman ) ने संसद में ( budget 2019 ) शुक्रवार को आम बजट पेश किया। अपने लाल रंग के बहीखाते में वित्तमंत्री कई सौगाते लेकर आईं। इनमें अप्रवासी भारतीय यानी NRI के लिए बड़ा ऐलान ( Aadhar card for nri ) किया गया।
यह भी पढ़ें-Budget 2019: विपक्ष ने सीतारमण के बजट को नकारा, कहा- नई बोतल में पुरानी शराब
निर्मला सीतारमण ने लोकसभा में बजट पेश करते हुए कहा, ‘सरकार भारतीय पासपोर्ट रखने वाले NRI को तत्काल आधार कार्ड देगी। भारत सरकार एयरपोर्ट पर पहुंचने वाले NRI को तुरंत आधार कार्ड जारी करेगी। आधार कार्ड देश में रहने वालों लोगों को ही दिया जाता है। लेकिन ऐसा पहली बार होगा जब सरकार NRI को आधार कार्ड देगी।
कौन हैं NRIएनआरआई ( NRI ) यानी अप्रवासी भारतीय ( non resident Indians )। भारत के विदेशी मुद्रा प्रबंधन अधिनियम ( फेमा ) 1999 के अनुसार, एक भारत का नागरिक यदि रोजगार, व्यवसाय या किसी अन्य व्यवसाय के उद्देश्य से भारत से बाहर रहता है, तो उसे एनआरआई यानी अप्रवासी भारतीय माना जाएगा। अगर वो पिछले वर्ष के दौरान भारत में 182 दिनों से कम रहा है, तब भी वे NRI ( aadhar card for nri ) है।
यह भी पढ़ें-Budget 2019: PM मोदी बोले- सीतारमण ने पेश किया न्यू इंडिया के विकास का बजट
मोदी सरकार ने अपने पिछले कार्यकाम में भी एनआरआई की परिभाषा तय की थी। अनिवासी भारतीय ( NRI ), भारतीय मूल के व्यक्तियों (PIO-Persons of Indian Origin) और विदेशी भारतीय नागरिकों (OCI-Overseas Citizenship of India) की ओर से भारत में किए जाने वाले प्रत्यक्ष विदेशी निवेश संबंधी नीति में संशोधन किए थे।
इसके अनुसार अनिवासी भारतीय की परिभाषा इस प्रकार होगी
‘अनिवासी भारतीय’ (एनआरआई) का अर्थ ऐसे वैयक्तिक नागरिक, जो भारत के बाहर रहते हैं और भारत के नागरिक हैं या जो नागरिकता अधिनियम, 1955 की धारा 7(ए) के दायरे में ‘विदेशी भारतीय नागरिक’ कार्डधारक हैं। जिन व्यक्तियों के पास ‘भारतीय मूल के व्यक्ति’ का कार्ड है और जो 19 अगस्त, 2002 को केन्द्र सरकार द्वारा जारी अधिसूचना नंबर 26011/4/98 के तहत पंजीकृत हैं, उन्हें ‘विदेशी भारतीय नागरिक कार्डधारक’ माना जाएगा।
कैसे बनेगा NRI का आधार कार्डआधार कार्ड के लिए NRI ( aadhar card for nri ) को वही दस्तावेज देने की जरूरत होगी जो एक भारतीय नागरिक को देने पड़ते हैं। बता दें कि आधार कार्ड बनाने वाले हर व्यक्ति को कार्ड बनवाते समय फिजिकली मौजूद रहना होता है। जिसके बाद व्यक्ति के फिंगरप्रिंट और रेटिना को स्कैन करके आधार कार्ड के डाटा को एनरोल किया जाता है।यह भी पढ़ें-
1.Budget 2019: निर्मला सीतारमण ने पेश किया आम बजट, मौके को खास बनाने माता-पिता भी पहुंचे
2.Budget के बाद हेमा मालिनी ने दी ये प्रतिक्रिया, देखें VIDEO
3. बजट ‘न्यू इंडिया’ वाला: गरीबों-किसानों पर करम, अमीरों पर सितम, मिडिल क्लास का तोड़ा भ्रम
Source: business patrika
Bugdet 2019: विदेश में रहने वाले भारतीयों को सीतारमण की सौगात, तत्काल बनवा सकेंगे आधार